Saturday, March 24, 2012

उन्हें समझो तो कविता समझ लेना

"अँधेरे में उजाले और भूख में निवाले के बीच संवेदना की भगदड़ है,
कुछ शब्द बिखरे हैं, कुछ निखरे हैं उन्हें समझो तो कविता समझ लेना."

                             
                              -----राजीव चतुर्वेदी