Sunday, December 9, 2012

हमारे तुम्हारे दरमियाँ एक दूरी थी


"हमारे तुम्हारे दरमियाँ एक दूरी थी
मकसद बड़ा था मगर कद छोटा था हमारा
उस दूरी को न नाप पाने की मजबूरी थी
हमें मिलने से रोक सकता था ज़माना
कुछ ख्वाहिशें थीं पर बीच में गुरूरों की खाई गहरी थी 
पर घुल -घुल कर हम हवाओं में घुल चुके थे
प्यार की खुशबू हर खाई खलिश की लांघ जाती है
उस और से आती हवा मेरे आँचल पे ठहरी थी ."
----- राजीव चतुर्वेदी

2 comments:

Reena Maurya said...

अति सुन्दर अभिव्यक्ति...
:-)

कालीपद प्रसाद said...


बहुत सुन्दर लिखा है आपने !
मेरे लेटेस्ट पोस्ट @http://kpk-vichar.blogspot.in me aapka swagat hai.